Category: hindi dard bhari kavita

Painful Hindi Love Poem – Dard ka Rishta

Painful Hindi Love Poem – Dard ka Rishta कोई क्यों हमें इतना दर्द दे जाता है कि इंसान खुदसे अजनबी हो जाता है हज़ारों चहरे हैं इस दुनिया में फिर भी एक चेहरे की तलाश क्यों रहती है क्या दर्द का रिश्ता इतना गहरा होता है कि ज़िन्दगी खुद एक शिकायत बन जाये कैसे जिएंगे …

Read More Painful Hindi Love Poem – Dard ka Rishta

Poem in Hindi – Ek Boond

Poem in Hindi – Ek Boond ज्यों निकल कर बादलों की गोद से। थी अभी एक बूँद कुछ आगे बढ़ी।। सोचने फिर फिर यही जी में लगी। आह क्यों घर छोड़कर मैं यों बढ़ी।। दैव मेरे भाग्य में क्या है बढ़ा। में बचूँगी या मिलूँगी धूल में।। या जलूँगी गिर अंगारे पर किसी। चू पडूँगी …

Read More Poem in Hindi – Ek Boond

Kash Aisa Hota Hindi Love Poem काश ऐसा होता – हिंदी प्रेम कविता

काश ऐसा होता – हिंदी प्रेम कविता Kash Aisa Hota Hindi Love Poem काश ऐसा होता – हिंदी प्रेम कविता काश ऐसा होता आप यूँ न मिलते दिल न मेरा खोता काश ऐसा होता रातें होती छोटी दिन आप संग निकलता काश ऐसा होता आप मेरे होते मैं आपका होता

Read More Kash Aisa Hota Hindi Love Poem काश ऐसा होता – हिंदी प्रेम कविता

Good Sayings in Hindi – Hindi Vichar गहराई से पढ़े

Good Sayings in Hindi – Hindi Vichar प्रत्येक लाइन गहराई से पढ़े- रिश्ता” दिल से होना चाहिए, शब्दों से नहीं, नाराजगी” शब्दों में होनी चाहिए दिल में नहीं! सड़क कितनी भी साफ हो “धुल” तो हो ही जाती है,इंसान कितना भी अच्छा हो “भूल” तो हो ही जाती है!!! आइना और परछाई के जैसे मित्र …

Read More Good Sayings in Hindi – Hindi Vichar गहराई से पढ़े

Funny Jokes in Hindi Language मुझे इतनी फुर्सत कहाँ कि

Funny Jokes in Hindi Language मुझे इतनी फुर्सत कहाँ कि मुझे इतनी फुर्सत कहाँ कि मैं तक़दीर का लिखा देखूं; बस .. लोगों का दिल जलता देख कर समझ जाता हूँ, .. कि मेरी तक़दीर बुलंद है .. !!!

Read More Funny Jokes in Hindi Language मुझे इतनी फुर्सत कहाँ कि

कुछ ख्वाब – हिन्दी प्रेम कविता

कुछ ख्वाब – हिन्दी प्रेम कविता

Hindi Kavita | Hindi sad Poems | कुछ ख्वाब – हिन्दी प्रेम कविता | Prem Kavita | Pyar Ki Kavitaye | Love Poems In Hindi | Dard Bhari Hindi Kavitaye | हमने भी कुछ ख्वाब देखे थे अनजाने में किसी को अपना बनाया था वो मिले इस क़दर कि हम खुदको भूल गये उनके सपनों की …

Read More कुछ ख्वाब – हिन्दी प्रेम कविता